मिश्री के गुण और उससे होने वाले आयुर्वेदिक इलाज

2097

परिचय (Introduction)

मिश्री का रंग सफेद होता है। इसकी तासीर शीतल और हल्की होती है।

गुण (Property)

मिश्री धातु को बढ़ाने वाली (वीर्यवर्द्धक), खून पित्तनाशक, दस्तावर, वात तथा पित्तनाशक है।

विभिन्न रोगों में उपचार (Treatment of various diseases)

आंख आना:

6 ग्राम से 10 ग्राम महात्रिफला घृत में मिश्री मिलाकर सुबह-शाम रोगी को देने से पित्तज चक्षु प्रदाह (गर्मी के कारण आंखों में जलन), आंखें ज्यादा लाल सुर्ख हो जाना, आंखों की पलकों का सूज जाना, रोशनी के ओर देखने से आंखों में जलन होना आदि रोग दूर होते हैं। इसके साथ ही त्रिफला के पानी से आंखों को धोने से भी आराम आता है।

आंख का फड़कना:

1 भाग गोघृत (गाय का घी) और 4 भाग दूध लेकर अच्छी तरह उबाल लें। फिर शुष्म-शुष्म (गर्म-गर्म) दूध के साथ मिश्री और 3 से 6 ग्राम असगंध नागौरी का चूर्ण सुबह-शाम सेवन किया जाए तो पूरी तरह से पलकों का फड़कना बंद हो जाता है।

आंखों के रोहे फूले:

  • तूतिया (नीला थोथा, कॉपर सल्फेट) और मिश्री को बराबर मात्रा में लेकर गुलाब जल में घोल बनाकर रखें। इसकी 2-3 बूंदे रोजाना 3 से 4 बार आंखों मे डालने से फूले, रोहे, कुकरे आदि रोग समाप्त हो जाते हैं।
  • 6 से 10 ग्राम महात्रिफलादि घृत इतनी ही मिश्री के साथ मिलाकर सुबह-शाम सेवन करने से आंखों का लाल होना, आंखों की सूजन, दर्द और रोहे आदि दूर होते हैं। इसके साथ ही त्रिफले के पानी से आंखों को बीच-बीच में धोना चाहिए।

दमा या श्वास का रोग:

समीन पन्नग रस लगभग 1 ग्राम का चौथा भाग, मिश्री या मिश्री के शर्बत के साथ सुबह-शाम देने से श्वास नलिका या गले के अन्दर जमी कफ निकल जाती है जिससे खराश कम हो जाती है। श्वास नली (सांस की नली) साफ हो जाने से दमा का वेग भी कम हो जाता है।

कनीनिका शोथ:

6 से 10 ग्राम महात्रिफला घृत में उतनी ही मिश्री मिलाकर सुबह-शाम सेवन करने से आंखों के सारे रोग दूर होते हैं। खासकर पित्तज दोष से हुए आंखों में जलन, आंखों के किसी भी भाग में सूजन आदि रोग दूर होते हैं। इसको खाने के साथ-साथ त्रिफला के पानी से आंखों को रोजाना 2-3 बार धोना भी चाहिए।

डकार के आने पर:

मिश्री की चासनी में बेर की मींगी (गूदा) और लौंग को मिलाकर खाने से जी के मिचलाने में लाभ होता है।

रोशनी से डरना:

6 ग्राम से 10 ग्राम महात्रिफलादि घृत को मिश्री मिले हुए ठण्डे दूध में मिलाकर सुबह-शाम पीने से रोशनी से डरना, आंखों में जलन, आंखों का लाल होना और आंखों में दर्द आदि रोग दूर हो जाते हैं। त्रिफला के पानी से रोजाना आंखों को धोने से भी लाभ होता है।

उपतारा शोथ:

6 से 10 ग्राम महात्रिफला घृत को उतनी ही मिश्री में मिलाकर दिन में 2 बार सेवन करें। इससे आंखों की सूजन, दर्द, आंखों का लाल होना, उपतारा शोथ (आंखों के अन्दर की सूजन) आदि रोग दूर होते हैं।

मुंह के छाले:

3 ग्राम बड़ी इलायची, 10 ग्राम बबूल का गोंद, 10 ग्राम मिश्री और 2 ग्राम नीम की पत्तियों को बारीक पीसकर चूर्ण बना लें, फिर इसे रोजाना सुबह-शाम सेवन करने से मुंह के छाले जल्दी ठीक होते हैं।

गर्भवती स्त्री का जी मिचलाना:

मिश्री की चासनी में लौंग का चूर्ण डालकर पीने से गर्भवती स्त्री का जी मिचलाना बंद हो जाता है।

बहरापन:

मिश्री और लाल इलायची को लेकर बारीक पीस लें। फिर इस चूर्ण को सरसों के तेल में डालकर 2 घंटों तक रहने दें। 2 घंटे के बाद इस तेल को छानकर एक शीशी में भर लें। इस तेल की 3-4 बंदे रोजाना सुबह-शाम कान में डालने से बहरेपन का रोग दूर हो जाता है।

संग्रहणी (दस्त, पेचिश):

80 ग्राम मिश्री, 80 ग्राम कैथ, 30 ग्राम पीपल, 30 ग्राम अजमोद, 30 ग्राम बेल की गिरी, 30 ग्राम धाय के फूल, 30 ग्राम अनारदाना, 10 ग्राम कालानमक, 10 ग्राम नागकेसर, 10 ग्राम पीपलामूल, 10 ग्राम नेत्रवाला, 10 ग्राम इलायची इन सभी को एक साथ लेकर बारीक पीस लें। इसमें से 2 चुटकी चूर्ण मट्ठा (लस्सी) के साथ खाने से संग्रहणी अतिसार (दस्त) के रोगी का रोग दूर हो जाता है।

खूनी अतिसार:

12 ग्राम सूखे धनिये और 12 ग्राम मिश्री को लेकर पीस लें। इस चूर्ण को आधे कप पानी में घोलकर पीने से खूनी अतिसार (दस्त) का रोग दूर हो जाता है।

गला बैठना:

सौंठ और मिश्री बराबर मात्रा में मिलाकर बारीक पीसकर चूर्ण बना लें और इस चूर्ण में शहद मिलाकर छोटी-छोटी गोलियां बना लें। इसकी गोलियों को चूसने से बैठा हुआ गला खुल जाता है तथा गले की खुश्की खत्म हो जाती है।

गर्मी अधिक लगना:

गर्मी के मौसम में गर्मी से बचने के लिए 5 से 10 ग्राम रतनपुरूष की जड़ और मिश्री को मिलाकर रोजाना सुबह-शाम पीने से मन में शांति और शरीर में ठंडक का अनुभव होता है।

मोटापा दूर करना:

मिश्री, मोटी सौंफ, सूखा धनिया को बराबर मात्रा में पीसकर 1 चम्मच सुबह पानी के साथ लेने से मोटापा दूर होता है।

नकसीर:

50 ग्राम सूखे हुए कमल के फूल और 50 ग्राम मिश्री को एक साथ मिलाकर पीसकर चूर्ण बना लें। इस चूर्ण को 1 चम्मच गर्म दूध के साथ फंकी लेने से सिर्फ 1 ही हफ्ते में ही नकसीर (नाक से खून बहना) का रोग दूर हो जाता है।

भ्रम रोग (मानसिक भ्रम):

लगभग 10 ग्राम मिश्री के साथ लगभग 6 ग्राम बरियारे के बीज को मिलाकर खाने से भ्रम रोग खत्म हो जाता है।

दिमाग के कीड़े:

50 ग्राम मिश्री और इतनी ही मात्रा में शंखपुष्पी को लेकर चूर्ण बना लें और इस चूर्ण को 6 ग्राम की मात्रा में सुबह गाय के दूध के साथ खाने से दिमाग की कमजोरी दूर हो जाती है।

गुल्यवायु हिस्टीरिया:

  • 10 ग्राम मिश्री और 10 ग्राम घृतकुमारी (ग्वारपाठा) के गूदा को मिलाकर त्रिफला के पानी से खाने से हिस्टीरिया रोग दूर हो जाता है।
  • लगभग 120 ग्राम मिश्री, 25 ग्राम कूठ, 25 मीठी बच, 25 ग्राम शंखपुष्पी, 25 ग्राम ब्राह्मी और 10 ग्राम सनाय को पीसकर चूर्ण बना लें। इसके बाद 3 ग्राम चूर्ण को पानी या गाय के दूध से लेने से हिस्टीरिया रोग में बहुत लाभ होता है।