लंबी लौकी के गुण और उससे होने वाले आयुर्वेदिक इलाज

644

परिचय (Introduction)

लंबी लौकी बाहर से हरी और अन्दर से सफेद होती है। इसका स्वाद फीका होता है। यह भी लौकी की ही एक जाति है। लंबी लौकी की प्रकृति शीतल है।

गुण (Property)

लंबी लौकी शरीर में खून को बढ़ाती है और जोश पैदा करती है। इसके उपयोग से पेट के विकार दूर होते हैं, पेशाब की मात्रा बढ़ती है और दिल में तरावट व शीतलता पैदा होती है। इसका प्रयोग गर्मी के बुखारों के लिए लाभकारी है और पुराने बुखार को दूर करती है। इसकी सब्जी बहुत अच्छी बनती है। इसके सेवन से दिल और मेदा (आमाशय) की गर्मी शांत होती है।

हानिकारक प्रभाव (Harmful effects)

इसका अधिक मात्रा में उपयोग शीतल स्वभाव वालों के लिए हानिकारक हो सकता है।

विभिन्न रोगों में उपचार (Treatment of various diseases)

मांस और मसाला लंबी लौकी के दोषों को दूर करते हैं। लंबी लौकी शरीर में खून को बढ़ाती है और जोश पैदा करती है। इसके उपयोग से पेट के विकार दूर होते हैं, पेशाब की मात्रा बढ़ती है और दिल में तरावट व शीतलता पैदा होती है। इसका प्रयोग गर्मी के बुखारों के लिए लाभकारी है और पुराने बुखार को दूर करती है। इसकी सब्जी बहुत अच्छी बनती है। इसके सेवन से दिल और मेदा (आमाशय) की गर्मी शांत होती है।