काला धतूरा के गुण और उससे होने वाले आयुर्वेदिक इलाज

1262

परिचय (Introduction)

धतूरा के पौधे लगभग सभी जगह पाए जाते हैं और यह आसानी से नहीं मिलते हैं। काले धतूरे में सफेद फूल लगते हैं जो गोल घण्टे के आकार की होते हैं। इसके पत्ते कोमल व मुलायम होते हैं। इसके फल सेब की तरह गोल होते हैं और फल के ऊपर छोटे-छोटे कांटे होते हैं। धतूरे चार प्रकार के होते हैं- काला, सफेद, नीला व पीला। काले धतूरे का रंग गहरे काले रंग का होता है और इसके पत्ते, डंडी व फूल भी काले ही होते हैं।

विभिन्न रोगों में उपचार (Treatment of various diseases)

  1. सूजन: धतूरे के पत्तों का रस, अफीम व सोंठ को मिलाकर पीस लें और इसका लेप हाथ-पैर करें। इससे सूजन दूर होती है। इससे वात के कारण आई सूजन व दर्द भी दूर होता है।

    2. सांस रोग: धतूरे को धूम्रपान की तरह सेवन करने से सांस रोग दूर होता है।